+About Us
BOOK
SHELF
SHOP
CART
Home > STUDENTS > Other Books > Hindi Books > 2nd Edition, 2011
BEST SELLER
Transfer of Property Act, 1882 and Indian Easements Act, 1982 (Hindi)सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम १८८२ और भारतीय सुखाचार अधिनियम १८८२ - Sampatti Antaran Adhiniyam, 1882 Aur Bharatiya Sukhachar Adhiniyam, 1982
10%
Saving
Diwali Deal

Transfer of Property Act, 1882 and Indian Easements Act, 1982 (Hindi)सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम १८८२ और भारतीय सुखाचार अधिनियम १८८२ - Sampatti Antaran Adhiniyam, 1882 Aur Bharatiya Sukhachar Adhiniyam, 1982

by Murlidhar Chaturvedi
Edition: 2nd Edition, 2011
Was Rs.295.00 Now Rs.265.00
(Prices are inclusive of all taxes)
10% off
Transfer of Property Act, 1882 and Indian Easements Act, 1982 (Hindi)सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम १८८२ और भारतीय सुखाचार अधिनियम १८८२ - Sampatti Antaran Adhiniyam, 1882 Aur Bharatiya Sukhachar Adhiniyam, 1982 2 Reviews | Write A Review
Your selected options are:
Free Shipping
FREE SHIPPING OVER Rs. 500. Want a Shipping Estimate? Add an Indian Pin Code, Click Here

In Stock
This Product is
In Stock

Free Delivery With
Free Delivery With Webstore Select
recommendation
Recommend
recommendation 2

  • Share
    8
  • Share
    1
  • Share
    1
  • Share
    1
  • Send By e-mail

GOOD TOGETHER:

Transfer of Property Act, 1882 and Indian Easements Act, 1982 (Hindi)सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम १८८२ और भारतीय सुखाचार अधिनियम १८८२ - Sampatti Antaran Adhiniyam, 1882 Aur Bharatiya Sukhachar Adhiniyam, 1982
Prachin Bhartiya Vidhi Vyavastha (Ancient Indian Legal System in Hindi)
EBC Learning
Together Rs. 5514
You save Rs. 81
Customers
Reviews
AVERAGE RATING
from 2 Reviews
5 Star
2
4 Star
0
3 Star
0
2 Star
0
1 Star
0

Product Details:

Format: Paperback
Pages: 456 pages
Publisher: Eastern Book Company
Language: English
ISBN: 9789350280553
Dimensions: 24.2 CM X 2.64 CM X 16 CM
Publisher Code: AB/055
Date Added: 2011-04-12
Search Category: Hindibooks
Jurisdiction: Indian

Overview:

The work provides an exhaustive and dependable commentary on the existing law of Transfer of Property.

प्रसिद्ध विधि साहित्य लेखक डॉ० मुरलीधर चतुर्वेदी द्वारा लिखी विभिन्न श्रेष्ठ पुस्तकों में से एक ‘सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम १८८२ और भारतीय सुखाचार अधिनियम १८८२’ का यह नूतन द्वितीय संस्करण अपने नये कलेवर, साज़-सज्जा व अद्यतन उपयोगी सामग्री के साथ आपके हाथों में है। पुस्तक का यह संस्करण दो अलग खण्डों यानि सम्पत्ति अन्तरण अधिनियम (भाग— I) व भारतीय सुखाचार अधिनियम (भाग— II) में विभाजित है जो पूर्व प्रकाशित संस्करण की तुलना में अधिक स्पष्ट और समझने में आसान है। लेखक द्वारा सन् २०१० तक के नवीनतम न्यायिक निर्णयों को आवश्यकतानुसार विभिन्न धाराओं में स्थान देकर और अधिक उपयोगी व जानकारीपूर्ण बनाने का प्रयास किया गया है। इसके अतिरिक्त पुस्तक में जहाँ एक ओर सम्पत्ति अन्तरण व सुखाचार से संबंधित विधि के सिद्धांतों की सम्यक विवेचना की गई वहीं दूसरी ओर जटिल व तकनीकी विधिक शब्दों का निर्वचन अत्यन्त सरल ढंग से करने का प्रयास भी किया गया है।

उम्मीद है सरल, सहज व बोधगम्य भाषा में प्रकाशित पुस्तक का यह द्वितीय संस्करण निश्चित रूप से प्रतियोगी छात्रों, अधिवक्ताओं व न्यायाधीशों तथा विधि जगत से जुड़े अन्य स्तम्भों, पाठकों के बीच अधिक उपयोगी सिद्ध होगा।

+ View More

Table Of Contents:

1. प्रारंभिक

2. पक्षकारो के कार्य द्वारा सम्पति - अंतरण के विषय में

3. स्थावर संपत्ति के विक्रयो के विषयो में

4. स्थावर संपत्ति के बंधको और भारो विषयो में

5. स्थावर संपत्ति के पट्टो के  विषय में

6. विनिमयो के विषय में

7. दान के विषय में

8. अनुयोज्य दावो के अंतरण के विषय में

 

+ View More
hello

Commendations

Bestsellers

By EBC
Click on TITLE to choose available options.
By EBC
Click on TITLE to choose available options.
By Sumeet Malik
Click on TITLE to choose available options.
By Gopal Sankaranaraya...
Rs. 625.00  Rs. 500.00
By C.K. Takwani (Thakk...
Rs. 595.00  Rs. 506.00
By EBC
Click on TITLE to choose available options.
By Avtar Singh
Rs. 595.00